ममता का मिशन यूपीः पूर्व मुख्यमंत्री कमलापति त्रिपाठी का परिवार टीएमसी में शामिल हुवा

पश्चिम बंगाल में भारी जीत के बाद ममता बनर्जी दूसरे राज्यों में अपनी पार्टी तृणमूल कांग्रेस के विस्तार में जुटी हैं। उनके निशाने पर फिलहाल यूपी समेत वह राज्य हैं जहां अगले साल विधानसभा के चुनाव होने हैं। टीएमसी को विस्तार देने के लिए कांग्रेस के कई बड़े नेता पिछले कुछ माह में तृणमूल कांग्रेस में शामिल हुए हैं। इसी कड़ी में सोमवार को ममता बनर्जी की उपस्थिति में यूपी के दो कद्दावर कांग्रेसी नेता राजेशपति त्रिपाठी और ललितेशपति त्रिपाठी टीएमसी में शामिल हो गए। राजेशपति त्रिपाठी और ललितेश आपस में पिता-पुत्र हैं। राजेशपति त्रिपाठी यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कमलापति त्रिपाठी के पौत्र हैं। कमलापति त्रिपाठी की पांच पीढ़ियां कांग्रेस का हिस्सा रही हैंपश्चिम बंगाल में भारी जीत के बाद ममता बनर्जी दूसरे राज्यों में अपनी पार्टी तृणमूल कांग्रेस के विस्तार में जुटी हैं। उनके निशाने पर फिलहाल यूपी समेत वह राज्य हैं जहां अगले साल विधानसभा के चुनाव होने हैं। टीएमसी को विस्तार देने के लिए कांग्रेस के कई बड़े नेता पिछले कुछ माह में तृणमूल कांग्रेस में शामिल हुए हैं। इसी कड़ी में सोमवार को ममता बनर्जी की उपस्थिति में यूपी के दो कद्दावर कांग्रेसी नेता राजेशपति त्रिपाठी और ललितेशपति त्रिपाठी टीएमसी में शामिल हो गए। राजेशपति त्रिपाठी और ललितेश आपस में पिता-पुत्र हैं। राजेशपति त्रिपाठी यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कमलापति त्रिपाठी के पौत्र हैं। कमलापति त्रिपाठी की पांच पीढ़ियां कांग्रेस का हिस्सा रही हैं त्रिपाठी परिवार पूर्वांचल में कांग्रेस की धुरी रहापूर्व मुख्यमंत्री कमलापति त्रिपाठी का परिवार पूर्वांचल के साथ ही उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की राजनीति की धुरी रहा है। वाराणसी के औरंगाबाद हाउस के नाम से मशहूर त्रिपाठी परिवार से कांग्रेस का नाता इसी महीने 4 अक्टूबर को टूट गया था। आजादी से पहले ही ललितेश के परदादा कमलापति त्रिपाठी कांग्रेस से जुड़ गए थे। प्रदेश मंत्रिमंडल का हिस्सा रहने के साथ ही 1971 से 73 तक प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे। केंद्रीय राजनीति में जाने पर रेलमंत्री भी रहे। अगली पीढ़ी पं. लोकपति त्रिपाठी और पुत्रवधू चंद्रा त्रिपाठी भी राजनीति में आए। लोकपति कई बार विधायक और कई मंत्रिमंडलों का हिस्सा रहे तो चंद्रा त्रिपाठी चंदौली से सांसद रहीं। लोकपति के बेटे राजेशपति त्रिपाठी भी संगठन के विभिन्न पदों पर रहने के साथ ही विधायक भी रहे। ललितेश पति त्रिपाठी यूपी कांग्रेस के उपाध्यक्ष भी रहे।

Share this news

You may have missed