तरियारी पोखरें पर छठ व्रती महिलाओं ने डूबते सूर्य को दिया अर्ध

केराकत जौनपुर

स्थानीय क्षेत्र के तरियारी गाँव शिव मंदिर पोखरें के किनारे रविवार को छठ पूजा बड़े धूम-धाम से मनाया गया । वही तरियारी गाँव व अन्य क्षेत्र के, सहित अन्य स्थानों पर व्रती महिलाओं ने डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य देकर पूजा अर्चना की ,संतान के सुख-सौभाग्य, समृद्धि, और सुखी जीवन की कामना के लिए व्रती महिलाओं ने डूबते सूर्य को दिया अर्ध ।और धर्म शास्त्रों के अनुसार, छठ में भगवान सूर्य देव की अराधना की जाती है. छठ का त्योहार साल में दो बार मनाया जाता है. पहला चैत्र शुक्ल षष्ठी को और दूसरा कार्तिक माह की शुक्ल षष्ठी को यह पर्व पूरे चार दिनों तक चलता है, जिसमें 36 घंटे का निर्जला व्रत रखा जाता है. संतान के सुख-सौभाग्य, समृद्धि, और सुखी जीवन की कामना के लिए छठ पूजा की जाती है. छठ पर्व की शुरुआत नहाय खाय के साथ होती है. इसके बाद खरना, अर्घ्य और पारण किया जाता है. खरना के दिन चावल और गुड़ की खीर बनाई जाती है। उसके पश्चात सुबह उगते सूर्य को अर्घ्य देकर पूजा समाप्त हो जाता है। तरियारी गाँव के पुराने शिव मंदिर स्थल पर साफ़ सफाई भी किया गया था ,और महिलाओं को गाँव के प्रदीप यादव, नखडू गुप्ता,कुलदीप यादव , सोनू यादव, अरविंद यादव, मिंटू यादव पिंटू यादव, जितेंद्र यादव के साथ तमाम लोगो ने सभी व्रती महिलाओं को छठ पूजा पर बधाई व शुभकामनाए दी।

Share this news