राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के महानिदेशक ने गंगा किनारे की सफाई में हाथ बंटाया

” महानिदेशक बोले, नमामि गंगे एक सांस्कृतिक महायज्ञ “

“अस्सी घाट पर गंगा निर्मलीकरण के लिए की गई जागरूकता “

” एनएमसीजी के महानिदेशक की अगुवाई में स्वच्छता के लिए जुड़े हाथ से हाथ “

बृहस्पतिवार को राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के महानिदेशक जी. अशोक कुमार ने अस्सी घाट पर नमामि गंगे टीम के साथ गंगा किनारे की सफाई में हाथ बंटाया । टीम ने गंगा किनारे से प्रदूषित कर रही अनेकों सामग्रीयों को निकाल कर कूड़ेदान तक पहुंचाया । मां गंगा की आरती उतारकर निर्मलीकरण का संकल्प लिया । स्वच्छता के लिए की गई जागरूकता में सैकड़ों ने भागीदारी की । नमामि गंगे काशी क्षेत्र के संयोजक राजेश शुक्ला ने सभी को स्वच्छता की शपथ दिलाई । श्रमदान के पश्चात महानिदेशक जी. अशोक कुमार ने कहा कि नमामि गंगे परियोजना की पहली प्राथमिकता गंगा में गिरने वाले सभी नालों को बंद करना है । गंगा में सीवर न जाए इसके लिए हम प्रयासरत हैं । गंगा बेसिन क्षेत्र में बहुत सारे सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट बन चुके हैं कई का निर्माण प्रगति पर है । कहा कि नमामि गंगे एक सांस्कृतिक महायज्ञ है। जनभागीदारी के द्वारा गंगा को प्रदूषित कर रही अन्य सामग्रियों का विसर्जन रोककर हम गंगा निर्मलीकरण की तरफ आगे बढ़ रहे हैं । नमामि गंगे काशी क्षेत्र के संयोजक राजेश शुक्ला ने कहा कि गंगा हमारी आस्था के साथ ही अर्थव्यवस्था भी हैं । सनातनी संस्कृति की संवाहिका गंगा हमारी पर्यटन, सिंचाई, पेयजल , धार्मिक, तीर्थाटन जैसी महत्वपूर्ण आवश्यकताओं की पूर्ति करती हैं‌ । गंगा जल का संरक्षण करना प्रत्येक भारतीय का कर्तव्य है । गंगा आरती के पूर्व सिफरी की ओर से गंगाजल में सैकड़ों मछलियों का प्रवाह किया गया। श्रमदान में प्रमुख रूप से महानगर संयोजक शिवदत्त द्विवेदी, महानगर सहसंयोजक सारिका गुप्ता, महानगर सहसंयोजक सीमा चौधरी, महानगर सहसंयोजक बीना गुप्ता, महानगर प्रभारी पुष्पलता वर्मा , नगीना पांडेय ,एनएमसीजी दिल्ली के अधिकारी संदीप बेहरा, कृतिका मदान , एसपीएमजी लखनऊ के डिप्टी डायरेक्टर सुनील सिंह, वन विभाग के एसडीओ राकेश कुमार, सिफरी के क्षेत्रीय अधिकारी डी एन झा, भारतीय सेना की 137 सी ई टी एफ बटालियन 39 गोरखा राइफल गंगा टास्क फोर्स के अधिकारी लेफ्टिनेंट कर्नल हेमंत गंभीर, सूबेदार पीसी केदार एवं अन्य जवान, भारतीय वन्य जीव संस्थान की अधिकारी सुनीता रावत, वेस इंडिया के निदेशक डॉ राजेश श्रीवास्तव, घनश्याम गुप्ता , सहकारी समिति के संयोजक अनंत मिश्रा , वन विभाग के कर्मचारी सहित सैकड़ों की संख्या में स्वयंसेवक शामिल रहे ।

Share this news