तीर्थ यात्रा पर जाएंगे गांव के 60 बुजुर्ग

काशीपुर ग्राम प्रधान बदल रहे गांव की सूरत, बुजुर्गों का रखा खास ध्यान

सरकार की योजनाओं के लाभ से गांव का कोई गरीब नहीं रहेगा वंचितः विजय श्रीवास्तव

वाराणसी।रोहनिया
पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में जहां कई ग्राम पंचायत के सरपंच भ्रष्टाचार और सरकारी धन की लूट खसोट जैसे कार्यों में लिप्त होकर अखबारों की सुर्खियो में बने रहते हैं। तो वहीं दूसरी तरफ पीएम के ही संसदीय क्षेत्र काशी में कुछ ग्राम पंचायतो के सरपंच ऐसे भी हैं। जो अपना धन खर्च कर ग्रामीणों की मदद करते हैं। इस अनोखी पहल के लिए सर्वप्रथम आराजी लाइन ब्लाक, काशीपुर ग्राम पंचायत के अनोखे सरपंच (ग्राम प्रधान) विजय श्रीवास्तव को हमारा सलाम है।

आखिर ‘काशीपुर’ ग्राम पंचायत के सरपंच क्यो है ‘खास’….?
लोग बताते हैं कि काशीपुर गांव के सरपंच विजय श्रीवास्तव गांव में हर तरफ विकास करने के लिए तत्पर रहते हैं। जरूरतमंद और गांव वासियों को सरकारी योजना का लाभ दिलवाते हैं। जरूरतमंदों के लिए स्वयं अपना धन खर्च कर उनकी मदद करते है। सरपंच बनने से पहले से ही विजय श्रीवास्तव के अंदर समाज में दबे कुचले जरूरतमंद असहाय गरीब लोगों के प्रति सद्भावना और मदद करने का जुनून था। गरीबों के प्रति इनका लगाओ और जरूरतमंदों के लिए तत्परता से खड़े होकर उनकी मदद करना ही विजय श्रीवास्तव का मुख्य उद्देश्य था। जिसके चलते वाराणसी के काशीपुर ग्राम पंचायत के सरपंच चुने गए।

अपने धन खर्च पर बुजुर्गों को करवाते हैं ‘तीर्थ यात्रा’
काशीपुर गांव के सरपंच विजय श्रीवास्तव अपने तनख्वाह धन खर्च से 60 बुजुर्गों को तीर्थ यात्रा कराने का संकल्प लिया था। जिसके उपरांत आज बुधवार रात्रि 9:00 बजे वाराणसी काशीपुर से बस के माध्यम से बुजुर्गों को अयोध्या तीर्थ यात्रा धाम का दर्शन कराने के लिए ले जा रहे हैं। इस बाबत मीडिया से बातचीत के दौरान सरपंच ने कहा कि अयोध्या तीर्थ धाम पूरे विश्व में प्रचलित है और मेरे गांव के जो बड़े बुजुर्ग हैं उनकी भी बहुत मंशा थी कि वह अयोध्या तीर्थ धाम पर जाए और भगवान श्री राम का दर्शन करें। जिसके उपरांत आज मुझे यह बहुत बड़ा सौभाग्य प्राप्त हुआ है कि मैं अपने साथ 60 बुजुर्गों को भगवान श्री राम के चरणों का दर्शन करवाने के लिए लेकर जा रहा हूं।

गांव के बुजुर्गों को देते हैं पहली प्राथमिकता
अपने ग्राम पंचायत में 15 अगस्त और 26 जनवरी के दिन ध्वजारोहण अपने ग्राम के बड़े बुजुर्गों द्वारा सम्मान के साथ करवाते हैं और अंगवस्त्र और स्मृति चिन्ह देकर उनको सम्मानित करते हैं। इसके अलावा गांव में होने वाले किसी भी शुभ कार्य का उद्घाटन करने के लिए गांव के बड़े बुजुर्गों के हाथों द्वारा ही कराया जाता है।

बृद्ध और विधवाओं के लिए करते हैं विशेष कार्य
जहां पर अन्य ग्राम पंचायतों में यह देखने को मिलता है कि वृद्ध व्यक्ति या विधवा महिलाओं को पेंशन के लिए खुदी ब्लॉक स्तर से लेकर साइबर कैफे तक का चक्कर लगाने के बावजूद भी उनको पेंशन योजना का लाभ नहीं मिल पाता है। हमने कई ग्राम पंचायतों में सर्वे के दौरान जाना की वृद्धा पेंशन और विधवा पेंशन के लिए जब ग्रामवासी अपने सरपंच के पास जाते हैं तो वह टालमटोल करते है। लेकिन काशीपुर ग्राम पंचायत के सरपंच विजय श्रीवास्तव द्वारा अपने ग्राम पंचायत में विधवा और वृद्धा पेंशन के लिए अब तक 72 फॉर्म भरे जा चुके हैं। इन फार्म को भरने के लिए जो भी धन खर्च होता है। सरपंच विजय श्रीवास्तव अपने निजी धन से करते हैं।

गांव में सांस्कृतिक कार्यक्रम को भव्य तरीके से मनाते हैं।
गांव में होने वाले दुर्गा पूजा, सरस्वती पूजा और जगह- जगह पर स्थापित मंदिरों पर हवन पूजन जैसे कार्यों को भी अपने ही धन खर्च पर करवाते हैं। इसके अलावा किसी भी धर्म मजहब के कार्यों व त्यौहारों में लोगों के साथ बड़ी ही शिद्दत के साथ सम्मिलित रहते हैं।

बढ़-चढ़कर सबकी करते है ‘मदद’
अपने ग्राम पंचायत के अलावा भी करते हैं लोगों की मदद जरूरतमंद लड़कियों की शादी में बर्तन देना, जरूरतमंद परिवार के लड़कों की शादी में खुद की कार भेज कर दुल्हन को सम्मान पूर्वक गांव में लाना और किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाने पर दाह संस्कार के लिए लकड़ी देने जैसे अन्य सामाजिक कार्यों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं, काशीपुर ग्राम पंचायत के सरपंच विजय श्रीवास्तव।

इसके अलावा काशी से चलकर राम की नगरी अयोध्या धाम को रवाना होने से पहले सभी यात्रियों ने हर हर महादेव के साथ जय श्री राम के नारे लगाए।

ऐसी ही दिलचस्प और निष्पक्ष खबरों के लिए मेरे साथ जुड़े रहे हैं।

Mayank kashyap
(Journalist)
(Varanasi)

Share this news