डीएम ने लंबित मामलों का निस्तारण न होने पर अधिकारियों को लगाई फटकार पिंडरा तहसील दिवस पर आए 137 मामले, निस्तारित हुए 4।

पिंडरा।

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा एवं पुलिस अधीक्षक ग्रामीण सूर्य कांत त्रिपाठी द्वारा शनिवार को पिण्डरा तहसील में सम्पूर्ण समाधान दिवस के अवसर पर फरियादियों की समस्या को सुना और निस्तारण में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों को फटकार लगाई। वही आपूर्ति विभाग के अधिकारी को कोटेदार की शिकायत मिलने पर तहसील दिवस से ही मौके पर जाकर जांच करने का निर्देश दिया।
जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि शिकायतों का निस्तारण एक सप्ताह में गुणवत्तापूर्ण करे कि उसी शिकायत को दोबारा लेकर फरियादी न आये।
असवालपुर के एक दर्जन ग्रामीण कुर्बान अली के नेतृत्व में तहसील पहुचे ग्रामीणों ने 25 वर्षो से प्रधानमंत्री सड़क योजना के तहत अधूरे बने पिंडरा असवालपुर मार्ग को पूर्ण कराने की मांग की। जबकि इसके ग्रामीण उक्त सड़क को पूर्ण कराने के लिए दो बार वोट का बहिष्कार करने के साथ दो बार सड़क जाम व दो दर्जन बार प्रार्थना पत्र दे चुके है लेकिन आज तक कोई कार्यवाही नही हुई। जिसपर डीएम ने तहसीलदार को अबिलम्ब उक्त मार्ग को पूर्ण करने का निर्देश दिया। वही अखिल भारतीय गोंड महासभा के श्रीनाथ गोंड व विनोद भाष्कर ने डीएम व तहसीलदार के निर्देश के बाद भी लेखपालों द्वारा गोंड समाज का प्रमाणपत्र हेतु रिपोर्ट न लगाने की शिकायत की। जिसपर लेखपालों को निर्देश दिये। वही दो वर्ष पूर्व क्षेत्र के एक दर्जन अनुसूचित जाति के लोगों को मछली पट्टा के लिए आवंटित तालाब का रजिस्ट्री पत्र तहसीलदार द्वारा जारी न करने की शिकायत पर डीएम ने जमकर डॉट पिलाई और अधिकारियों से अबिलम्ब तालाब पट्टा स्वीकृत करने की मांग की। पिंडरा मानापुर के धर्मेंद्र कुमार ने अपने भाई व भतीजे द्वारा घर मे घुसने पर लात घुसो से मारने के साथ घर से बाहर निकालने का आरोप लगाया। पीड़ित सोनभद्र में रहकर जीवनयापन करता है। डीएम एसओ फूलपुर को जांच के आदेश दिए।
बसनी बड़ागांव की निवासिनी ऊषा कौल द्वारा शिकायत की गयी कि उसके निजी जमीन पर दबंगों द्वारा खड़ंजा लगवा दिया गया है जोकि एसडीएम के आदेश के बावजूद नहीं हटाया जा रहा। आरोप है कि वहां से एडीओ एसटी द्वारा विपक्षी से मिलकर कार्यवाही में रुकावट डाली जा रही है। जिलाधिकारी द्वारा बीडीओ बड़ागांव को स्वयं जांच करा कर शिकायत का निस्तारण कराने का निर्देश दिया गया। असिला के रुनुद्दीन खा, व मानापुर के राजनारायण ने पीडी कराने के बावजूद लगातार बिल व आरसी आने की शिकायत की। जिसपर एसडीओ को जांच कर निस्तारित करने का निर्देश दिया।इसके अलावा भूमि विवाद, आपूर्ति विभाग व पुलिस विभाग से सम्बंधित ज्यादातर मामले आये। पिण्डरा में ट्यूब वेल संख्या 363 की पाइप लाइन अब्दुल गफ्फार द्वारा पिछले चार पांच सालों से काट दिये जाने की शिकायत प्रभावित काश्तकारों द्वारा की गयी। जिसके लिए अधिशाषी अभियंता को निर्देशित किया गया।
गहुरा गांव निवासी राजकुमार के पक्ष में सिविल कोर्ट एवं जिलाधिकारी के निर्देश पर डिप्टी कलेक्टर माल द्वारा फाट बाट कराने का निर्देश के बावजूद लेखपाल द्वारा 18 महीने से हीला हवाली करने तथा कब्जा नहीं दिलाने का आरोप लगाया। डीएम ने लेखपाल पद्माकर पाठक व कानूनगो शिवशंकर चौबे को अबैध कब्जा करने वाले के खिलाफ एफआईआर कराने के साथ ही एक सप्ताह में मेड़बन्दी व कब्जा दिलाने का निर्देश दिया।
इस दौरान कुल 137 मामले आये। जिसमे मात्र 4 का मौके पर निस्तारण हो पाया।
इस दौरान एडीएम प्रशासन रणविजय सिंह, एसडीएम पुष्पेंद्र सिंह, सीओ अभिषेक पांडेय, बीएसए अरविंद पाठक, नायब तहसीलदार साक्षी राय समेत अनेक जिलास्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।

Share this news